नई दिल्ली| उत्तर प्रदेश में अगर अाज की तारीख में चुनाव कराए जाएं तो मायावती की बसपा 185 सीटों के साथ प्रदेश में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी. हालांकि यह 403 सीटों वाली विधानसभा में बहुमत से 17 सीट कम है. ऐसे में बहुमत के आंकड़े तक पहुंचने के लिए मायावती की बसपा को गठबंधन की जरूरत होगी. गौर हो कि उत्तर प्रदेश में 2017 में चुनाव होने वाले हैं.

एक वेबसाईट ने अपने सर्वे के बाद दावा किया है कि यूपी के कुल 403 सीटों पर मार्च 2016 में चुनाव हो तो बसपा को 185 सीट मिल सकती है. इस सर्वे में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर एमआईएम है और इसे 170 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है. जबकि सत्तारूढ़ दल समाजवादी पार्टी को 48 सीटों पर संतोष करना पड़ सकता है. अापकाे बता दें कि मौजूदा विधानसभा में सपा के 228, बसपा के 80 और भाजपा के पास 42 विधायक हैं.19 फरवरी से 1 मार्च के बीच उत्तर प्रदेश के 61 सीटों पर किये गये सर्वे में कुल 19 हजार 572 वोटरों की राय लेने की बात कही गयी है.

इस सर्वे में एमआईएम और उसके सहयोगी अपने दल को 175 सीटें मिलने की बात कही गयी है. कांग्रेस और आरएलडी को सर्वे में नुकसान की बात कही गयी है. साल 2012 में कांग्रेस के 29 और आरएलडी के 8 विधायक बने थे. दोनों दलों को इस बार एक साथ 13 सीटें मिलने का अनुमान है.

प्रदेश में मुख्यमंत्री पद की पसंद में कड़ी टक्कर के बावजूद असदउद्दीन ओवैसी पर मायावती भारी पड़ती दिख रही हैं. 31 फीसदी लोग मायावती तो 30 फीसदी ने असदउद्दीन ओवैसी के साथ है. वहीं, स्मृति ईरानी 4 फीसदी और प्रियंका गांधी 2 फीसदी लोगों की पसंद साबित हुई हैं.

अपनी कीमती राय देना न भूले ! शुक्रिया
loading...