रियाद-पिछले कई हफ्तों से चल रहे दुनिया के एक शक्तिशाली देश सऊदी अरब की हलचल का निष्कर्ष निकलकर सामने आरहा है।सीधा सा मतलब है कि सऊदी अरब में शहज़ादों को जेल में डालना और एक दिन में दो शहज़ादों की मौत किसी राजनीतिक प्लान का हिस्सा होसकती हैं।अगर इंटरनेशनल मीडिया की रिपोर्ट्स की मानें तो सऊदी अरब के शाह सलमान अगले हफ्ते पद छोड़कर अपने बेटे मोहम्मद बिन सलमान को सत्ता सौप सकते है.81 साल के शाह सलमान ने 32 साल के मोहम्मद बिन सलमान को सत्ता पर पकड़ पहले मजबूत कर चुके है.
इससे साफ पता चलता है कि सऊदी अरब में होने वाली उथलपुथल का कारण मोहम्मद बिन सलमान का सत्ता हासिल करनी थी।डेली मेल की खबर के अनुसार,अगर कुछ अलग नही हुआ फिर शाह सलमान अपने हफ्ते अपने बेटे को सत्ता सौपने का एलान कर सकते है,पद छोड़ने के बाद मोहम्मद बिन सलमान इंग्लैंड की महारानी के तरह ही अपने आप को सीमित कर लेंगे लेकिन वो खादिमुल हरामैन का लकब अपने पास रखेंगे.

इंटरनेशनल मीडिया की मानें तो सत्ता पर काबिज़ होने के बाद प्रिंस सलमान ईरान को नियंत्रित करने की कोशिश करेंगे.सूत्रों के आधार पर डेली मेल ने दावा किया है कि मोहम्मद बिन सलमान के शाह बनने के बाद ईरान और हिज्बुलाह पर सख्त नीति अपनाएंगे.

बता दे क्राउन प्रिंस मोहम्मद सलमान ने हाल ही में करप्शन के आरोप में चालीस से ज्यादा प्रिंस और अधिकारीयों को गिरफ्तार किया है.सलमान को पश्चिमी देश आधुनिक और उदार मान रहा है.मोहमम्द बिन सलमान ने एक इंटरव्यू में भी अहद किया है कि वो सऊदी अरब को उदार धार्मिक देश बनायेंगे हलाकि सलमान के आलोचकों का कहना है कि क्राउन प्रिंस अपनी स्वीकार्यता को बनाने के लिए इस तरह के दावे कर रहे है

Facebook Comments
SHARE