झांसीःअब लगने लगा है कि यूपी पुलिस का अपराधियों को कोई खौफ नहीं है। झांसी से  खबर आरही है कि मामला सुलझाने पहुंची पुलिस को आम गांववासियों के आगे घुटनों पर बैठना पड़ गया। इतना ही नहीं गांव की महिलाओं ने पुलिस वालों को घेरने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है।

स्थानीय लोगो ने बन्दूकें छीन ली थी।

दरअसल यह यूपी पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करने वाला यह मामला झाँसी जिले के टिहरौली गांव का है। जहां एक विवाद के चलते पुलिस ना सिर्फ पीटी बल्कि बंधक बना ली गई। स्थानीय लोगों ने पुलिसकर्मियों की बंदूकें तक अपने कब्जे में ले ली।

मामला सुलझाने पहुँची पुलिस खुद उलझी

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार टेहरौली गांव के रहने वाले बाबूलाल ने एक शिकायत की थी, जिसमें उसने गांव के ही सुरेश सिंह राजपूत पर ये आरोप लगाए कि उसने उसकी गाय बांध ली है। इस विवाद को सुलझाने गांव पहुंची पुलिस खुद ही उलझ गई। जानकारी के मुताबिक मामले की जानकारी लेने सब इंस्पेक्टर दुर्गा प्रसाद और एक सिपाही गांव में पहुंचे तो पीड़ितों से उनकी कहासुनी होने लगी। एक स्थानीय युवक ने इस पर पुलिस की बंदूक ही छीन ली।

देखते-देखते महिलाओं समेत गांव के कई लोगों ने दरोगा और सिपाही दोनों की जमकर पिटाई कर डाली। बंधक बने दोनों पुलिस वालों को छुड़ाने की खातिर भारी पुलिस बल भेजी गई, तब जाकर दोनों पुलिस वाले लोगों के चंगुल से बच पाए। इसके बाद मामले पर संज्ञान लेते हुए गांव के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

Facebook Comments
SHARE