शामली में दैनिक जागरण समाचार पत्र के कार्यालय पर आज महिलाओं ने हमला किया। आरोप है कि दैनिक जागरण समाचार पत्र ने कुछ छात्राओं के सर झुकाकर ट्रैक्टर गाड़ी में चलते हुए फोटो प्रकाशित किया था। जिससे आक्रोशित हो महिलाओं ने दैनिक जागरण कार्यालय पहुंचकर प्रभारी लोकेश पंडित के साथ बदसलूकी और मारपीट की।इस मामले में बताया जा रहा है कि एक किसान संगठन से जुड़े लोगों द्वारा उकसाकर यह हमला कराया गया। आरोप यह भी है कि कुछ ख़बरों से गुस्साए किसान संगठन के लोगों ने मीडिया पर हमला करवाया।

पुलिस ने इस मामले में दैनिक जागरण समाचार पत्र के ब्यूरो चीफ लोकेश पंडित की ओर से नामजद और अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की।जिसमें एसिड अटैक से लेकर जानलेवा हमले तक की धाराएं लगी है।उधर किसान संगठन से जुड़े लोग भी क्रॉस केस कराने के लिए दबाव डाल रहे हैं।

एससी एसटी एक्ट और नाबालिग बच्चों का बिना अनुमति चित्र छापने की बात कह विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कराने के लिए प्रयास जारी है।इस मामले में राकेश टिकैत वही डेरा जमाए हुए हैं। लोकतंत्र पर यह हमला किसी भी रुप से सही नहीं है अगर समाचार पत्र की किसी खबर या चित्र से किसी को आपत्ति थी तो उसे वैधानिक कार्यवाही करनी चाहिए थी ना कि कलम को हथियार के रूप में इस्तेमाल करने वाले लोगों पर एसिड और अन्य चीजों से हमला करने की आवश्यकता थी।

दरअसल दैनिक जागरण के सभी संस्करण में छात्राओं के सिर झुका कर सड़कों से ट्रैक्टर ट्रॉली में बनी बेंच पर बैठ कर गुजरते हुए फोटो प्रकाशित हुआ था।जिसमें बताया गया था कि आज भी छात्राओं को छेड़खानी से बचने के लिए सर झुका कर गुजरना पड़ता है।इसी बात से की आड़ में दैनिक जागरण कार्यालय पर सुनियोजित हमला कराया गया।

इस मामले में सुखद पहलू यह रहा कि ट्रैक्टर-ट्रॉली के जुगाड़ को SP डॉक्टर अजय शर्मा ने संचालन को बंद करा कर उसकी जगह एक एनजीओ से बात कर बस की व्यवस्था कराई

Facebook Comments
SHARE