भारत में भाजपा की सरकार बनने के बाद विवादों में फंसते दिखाई देने वाले दुनिया के सबसे मशहूर इस्लामी उपदेशक डॉक्टर जाकिर नाईक को मलेशिया सरकार ने भारत को सौंपने की इच्छा जताई है। बुधवार को मलेशिया के उप प्रधानमंत्री अहमद जाहिद हमीदी ने कहा कि ‘अगर भारत मलेशिया से औपचारिक तौर पर जाकिर नाईक को सौंपने का आग्रह करता है तो हम उसे सौंप देंगे।’
भारत ने सौंपने का आग्रह किया था

भारत ने हाल ही में कहा था कि हम जल्द ही मलेशिया सरकार से जाकिर को भारत को सौंपने का आग्रह करेंगे। बता दें कि जाकिर नाईक को मलेशिया ने अपने यहां शरण दी है। कुछ दिन पहले उसे एक मस्जिद से निकलते हुए देखा गया जहां उसके साथ कई लोग मौजूद थे और उसके साथ फोटो खिंचवाना चाहते थे। मीडिया का मानना है कि मलेशिया ने जाकिर को इसलिए अपने यहां रहने की जगह दी है क्योंकि वह वहां के लोगों के बीच काफी मशहूर है। ऐसे में अगर सरकार उसको वहां से बाहर निकालने की सोचेगी तो उसका एक बड़ा वोट बैंक उसके खिलाफ हो जाएगा।

NIA ने चार्जशीट दर्ज कराई थी

बीते दिनों भारत की आतंकरोधी एजेंसी एनआईए ने जाकिर के खिलाफ चार्जशीट तैयार की है। इसमें जाकिर को भारत में अपने भाषणों के द्वारा दो समुदायों के बीच नफरत फैलाने के लिए जिम्मेदार बताया गया है।

सऊदी अरब से मिल चुकी है नागरिकता

डॉक्टर ज़ाकिर नाईक इस्लामिक विद्धवान हैं भारतीय जांच एजेंसियों से बचने के चक्कर में भारत छोड़कर सऊदी अरब चले गए थे जहां उनको सऊदी अरब की नागरिकता मिल चुकी है।ज़ाकिर नाईक पर कट्टरता फैलाने अथवा धार्मिक भावनाएं भड़काने का इल्ज़ाम लगाया गया है।जिस वजह से ज़ाकिर नाईक भारत छोड़ चुके हैं

Facebook Comments
SHARE