योरोप अमेरिका से उतनी वाली भयानक समाजिक बीमारी इस्लामोफोबिया अब भारत पहुंच गई है,इसका तो किसी को पता नही था,लेकिन जब एक घटना दिल्ली मे सामने आई तो पता चला कि इसने यहाँ भी अपने पाँव पसार लिए हैं।दिल्ली के एक अनाथालय ने एक 27 वर्षीय मुस्लिम महिला को नौकरी देने से सिर्फ इसलिए मन कर दिया क्योंकि वह हिजाब पहनती है।
सोशल वर्क में मास्ट्रेट किया हुआ है

अक्टूबर के महीने में, जोया ने कोटला मुबारकपुर में स्तिथ अनाथालय में नौकरी के लिए आवेदन किया था।अनाथालय के प्रबंधन ने उन्हें एक ऑनलाइन परीक्षा देने और तस्वीरें भेजने के लिए कहा था।इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक, पटना की रहने वाली नेदल जोया दिल्ली में नौकरी खोज रही हैं। उन्होंने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस, मुंबई से सोशल वर्क में मास्टर किया है।
एक किलोमीटर से भी मुसलमान दिखती हो इस लिए नोकरी नही देंगे

संगठन ने उसके आवेदन को अस्वीकार कर दिया क्योंकि वह हिजाब पहनती है। और ईमेल के जरिये अनाथालय के अध्यक्ष और सीईओ हरिश वर्मा ने लिखा है कि संस्था “धर्म मुक्त” है।

उन्होंने आगे कहा कि चुकी वह 1 किमी की दूरी से भी मुस्लिम की तरह दिखती हैं। इसलिए आप इस नौकरी के लिए सही नहीं हैं इसके जवाब में, जोया ने कहा कि हिजाब पहनना उसके लिए प्राथमिकता है।

बाद में मंगलवार को, श्री वर्मा ने लिखा, “मुझे पता था कि रूढ़िवादी इस्लाम आपकी प्राथमिकता है “मानवता’नहीं ! आगे लिखा है कि, “आपकी उच्च शिक्षा बेकार  चली गई!”

उन्होंने आगे बताया कि उन्होंने एक धर्म मुक्त मानसिकता वाली और आधुनिक विचार मुस्लिम लड़की को नौकरी पर रख लिया है ।

Facebook Comments
SHARE